मोटू और पतलू की जोड़ी का: स्कूल में चुन्नू-मुन्नू से पंगा..

Spread the love


मोटू-पतलू की कहानी


मोटू-पतलू बड़े शैतानी ,
पढाई से करते आना-कानी |(motu aur patlu ki jodi)


मोटू गए जेल पतलू हुए फेल ,
सुधर गई है अब शैतानी ||

बच्चो आप पढाई करिये और माता-पिता के आदेश का पालन करिये |

मोटू और पतलू की जोड़ी

मोटू-पतलू क्लास में शरारत करते हुए
पतलू चढ़ के बैठ गया पंखे पर ,
मोटू लटक गया पंखे से |


देख शरारत इनकी परेशान हुए चुन्नू-मुन्नू ,
चुन्नू ने चलाया फैन मोटू-पतलू हुए बेचैन |


मोटू-पतलू गिरे धड़ाम मोटू की फट तोद ,
पतलू का फटा है सिर |(motu aur patlu ki jodi)


बच्चों शरारत नहीं करना चाहिए नहीं तो मोटू पतलू जैसा हाल होगा होगा |

जादूई पेंसिल : मोटू और पतलू की जोड़ी –

jadui pencil

मोटू और पतलू की जोड़ी स्कूल में शरारत के जानी जाती थी।


एक बार मोटू-पतलू स्कूल से घर आ रहे थे , रास्ते में उन्हें एक जिन्न मिला
मोटू-पतलू की दोस्ती हो गई जिन्न से , प्रतिदिन वो मिलने लगे ।


एक दिन जिन्न प्रशन्न होकर मोटू-पतलू को एक जादुई पेंसिल देता है ,
जो अपने आप ही उत्तर कॉपी पर लिखने लगती है , लेकिन मिटा नहीं सकती |


एक दिन जिन्न प्रशन्न होकर मोटू-पतलू को एक जादुई पेंसिल देता है ,
जो अपने आप ही उत्तर कॉपी पर लिखने लगती है , लेकिन मिटा नहीं सकती |


बस कहना पड़ता था ( जादुई पेंसिल उत्तर लिखो जैसे-)
जादुई पेंसिल लिख देती थी सही-सही उत्तर ।

कहानी में आगे क्या हुआ पूरा पढ़े ?


बच्चों आगे चंमत्कार हो गया . (motu aur patlu ki jodi)


मोटू-पतलू क्लास में सबसे ज्यादा नंबर पाने वाले हो गए ।
सब बच्चे हुए हैरान जब मोटू-पतलू ने अर्धवार्षिक परीक्षा में किया टॉप ।

आगे क्या हुआ वार्षिक परीक्षा में सोचों बच्चो ?motu aur patlu ki jodi

कुछ दिनों बाद मोटू-पतलू के जादुई पेंसिल की खबर क्लास के बच्चो को लग जाती है ।
वार्षिक परीक्षा में मोटू-पतलू खुशी-खुशी शामिल होते है ,
सभी बच्चों की नजर उन दोनों पर रहती है ।


कॉपी-पेपर मिलते ही मोटू-पतलू ने आवाज दी (जादुई पेंसिल-जादुई पेंसिल उत्तर दो प्रश्न न० १ )
पेंसिल ने अपने आप उत्तर पुस्तिका में उत्तर लिख दिया।

जिसे सुन पास में बैठे बच्चो ने मोटू और पतलू की बात को दोहराना सुरु कर दिया ।
(जादुई पेंसिल-जादुई पेंसिल उत्तर दो प्रश्न न० १ )
(जादुई पेंसिल-जादुई पेंसिल उत्तर दो प्रश्न न० १ )
बार बार-बार बच्चे एक ही बात दोहरा रहे थे

जादुई पेंसिल एक ही उत्तर को बार-बार लिख रही थी पल भर में मोटू-पतलू की उत्तर-पुस्तिका भर जाती है।


इस प्रकार मोटू और पतलू की जोड़ी (motu aur patlu ki jodi) फेल हो जाती है ,
उन्हें उनके गलत कामों की सजा मिलती है।

इस कहानी से हमें ये शिक्षा मिलती है की हमें अपने काम के पार्टी ईमानदार होना चाहिए ।

प्रश्न – मोटू और पतलू की जोड़ी फेल क्यों हो जाते है ?

उत्तर अवश्य दीजियेगा बच्चों ,


इस तरह की अन्य कहानियों के लिए
Click hear

Leave a comment