Spread the love

शतरंज खेलने के नियम हिंदी में ? chess game rules ( chess kaise khelte hain ) चैस ट्रिक्स इन हिंदी, शतरंज कैसे जीते, शतरंज का इतिहास एकदम सरल भाषा में जिसे पढ़ने के बाद आप शतरंज खेलना सिख जायेंगे .

शतरंज के नियम हिंदी में .

How to Play Chess

शतरंज को चेस के नाम से भी जाना जाता है. इस खेल का आविष्कार भारत में हुआ था जिसका प्राचीन नाम चतुरंग था। शतरंज दो खिलाड़ियों के बीच खेला जाने वाला गेम है जिसके बीच दोनों खिलाड़ी मानसिक रूप से एक-दूसरे को शह और मात देने की कोशिश करते रहते हैं।

शतरंज मानसिक व्यायाम में सहायक होता है जिनसे हमारा मानसिक संतुलन बना रहता है। तथा मनोरंजन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण साधन है, आजकल शतरंज स्कूल के पाठ्यक्रम का एक अहम हिस्सा बन चुका है. भारत देश के कुछ प्रदेशों जैसे दिल्ली,तमिलनाडु, गुजरात आदि जगहों पर जिस की बहुत डिमांड है और यहां पर लोग अपने बच्चों को सिखाने के लिए अलग से ट्विटर का इंतजाम कर रखे हैं।

शतरंज में सीखी बारीकियों को बच्चा अपने जीवन में उतार लेता है, जिससे उसका बौद्धिक विकास बढ़ जाता है।

भारत में खेली जाने वाली सबसे बड़ी प्रतिस्पर्धा प्रत्येक वर्ष जनवरी माह में खेली जाती है जिसमें तकरीबन 5 से 7000 प्रतिभागी प्रतिभाग लेते हैं। जिस प्रतियोगिता को Parsvnath Delhi International Chess tournament नाम से जाना जाता है जिसका आयोजन प्रत्येक वर्ष दिल्ली के इंदिरा गांधी नेशनल स्टेडियम में करा जाता है। एक करोड़ से ज्यादा धनराशि खिलाड़ियों को इनाम के रूप में दी जाती है।

नोट- प्रतियोगिता में कोई भी व्यक्ति भाग ले सकता है उचित! फीस जमा करके।

शतरंज का खेल।

शतरंज का खेल कोई भी खेल सकता है। इसके लिए किसी उम्र की सीमा नहीं होती। मतलब छोटा बच्चा एक बड़ी व्यक्ति से भी शतरंज बोर्ड पर बैठकर खेल सकता है, शतरंज इतना रोचक खेल है कि इसे खेलने वाले खिलाड़ी को यह तक नहीं पता चलता कि कब खेलते खेलते रात हो गई। शतरंज एक नशा है. इसीलिए इसे समय की बर्बादी के नाम से भी जाना जाता है जो कि गलत है क्योंकि लोग शतरंज से भी अच्छा खासा पैसा कमा रहे हैं अपना कैरियर बना कर।

शतरंज आपकी तर्कशक्ति और कल्पनाओं में पंख लगा सकता है।

शतरंज का इतिहास।

वैसे तो शतरंज का कोई प्रमाणित इतिहास नहीं है, लेकिन मूलत इसका आविष्कार भारत में हुआ था जिस का प्राचीन नाम चतुरंग था जो भारत से अरब होते हुए यूरोप गया और फिर 15 मी 16 वी सदी में पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गया और इस शतरंज को बाद में रूस ने अपने देश का राष्ट्रीय खेल घोषित कर दिया।

शतरंज खेल दो व्यक्तियों के मध्य खेला जाता है. जिसे खेलने के लिए एक चीज बोर्ड व 32 गोटी पीस की आवश्यकता पड़ती है। चेस बोर्ड पर 64 खाने होते हैं तथा 16 गोटियां हर एक टीम के पास होते है, और उन गोटियों में राजा, रानी, दो हाथी, दो घोड़ी, दो ऊंट और वह 8 सैनिक होते हैं।

गेम का मुख्य उद्देश्य .

इस गेम का मुख्य उद्देश्य होता है प्रतिद्वंदी खिलाड़ी के राजा को मात देना। जिसे चेकमेट कहते हैं चेकमेट से अभिप्राय यह है कि जब एक खिलाड़ी अपने प्रतिद्वंदी कि राजा को चेक और में देता है तो प्रतिद्वंदी राजा के पास चलने के लिए अपने बचाव में कोई घर नहीं मौजूद होता। ऐसी स्थिति में राजा की मृत्यु हो जाती है और गेम को समाप्त कर दिया जाता है।

नोट- शतरंज के खेल का मुख्य लक्ष्य है शह और मात देना।

शतरंज खेल की शुरुआत

शतरंज की शुरुआत में सभी गोंटिया राजा, रानी, हाथी, घोड़ा, ऊंट व सैनिक को चेस बोर्ड पर एक निश्चित क्रम में सजाया जाता है, एक खिलाड़ी सफेद गोटी लेता है तो दूसरा काली गोटी लेता है।

चेस बोर्ड जमाने के लिए हाथियों को दोनों किनारे पर रखते हैं एक को A फाइल  पर रखते हैं तो दूसरे को H पर रखते हैं, फिर दोनों हाथियों के पास में घोड़े को लगाते हैं। फिर घोड़ों के बाजू में दोनों ऊंट को रखते हैं और अंत में राजा और रानी को बीच सेंटर में रखते हैं। राजा को E फाइल पर तथा रानी को D फाइल पर रखते हैं।  

शतरंज खेल की शुरुआत सफेद मोहरे वाला व्यक्ति करता है। उसके बाद खिलाड़ी निर्धारित नियम और शर्तों के अनुसार एक-एक करके चालें चलते रहते हैं।

शतरंज बोर्ड के 64 खानों में ऑडी कतार को फाइल कहते हैं तथा सीधी कतार को रैंक दर्जा कहलाती है। इन 64 खानों में ही एक विशाल काल्पनिक युद्ध लड़ा जाता है और अंत में एक विजय तो दूसरा हार का सामना करता है या फिर कभी कभी मामले बिना निर्णय समाप्त होते हैं।

शतरंज में मोहरे चलने के नियम।

 राजा (King)

King Move

राजा अपने स्थान से किसी भी एक दिशा में एक खाना चल सकता है। राजा खेल का केंद्र बिंदु होता है, इसकी मृत्यु के तुरंत बाद ही व्यक्ति गेम हार जाता है।

नोट- शतरंज में राजा को बिना बताए नहीं मात दिया जा सकता, मतलब चेक बोलना अनिवार्य है।

रानी (Queen)

Queen Move

रानी खेल का सबसे ताकतवर मोहरा होता है यह किसी भी दिशा में। चाहे तिरछा हो, सीधा हो, आगे हो पीछे हो कहीं भी चल सकती है। इसके पास हाथी और ऊँट दोनों की शक्तियां मौजूद होती हैं।

हाथी (Rook)

Rook Move

हाथी किसी भी पंक्ति में दाएं बाएं तथा ऊपर नीचे चल सकता है ,हाथी खेल में रानी के बाद दूसरा सबसे ताकतवर मोहरा है। फाइल ओपन होने पर हाथी बहुत खतरनाक होता है।

घोड़ा (Knight)

Knight Movement

घोड़ा किसी एक दिशा में L का आकार बनाते हुए ढाई घर चलता है। घोड़ा ही एक ऐसा मोहरा है जो दूसरों मोहरों के ऊपर छलांग लगाकर डाक  सकता है. इनकी संख्या 2 होती है।

नोट- घोड़े की चाल समझना शतरंज में सबसे कठिन चाल मानी जाती है।

ऊंट (Bishop)

Bishop Move

शतरंज में दो ऊंट होते हैं एक सफेद खाने पर तो दूसरा काले खाने पर रखा हुआ होता है. एक हमेशा तिरछी ही चलते हैं और अपनी इच्छा अनुसार किसी भी खाने पर जा सकते हैं।

नोट- दोनों उठ मिलकर बहुत ताकतवर हो जाते हैं अगर मांद खुली हो तो।

सैनिक (Pawn)

pawn move

सैनिक हमेशा सामने वाले वर्ग पर एक कदम आगे चलता है. लेकिन वह अपना! पहला कदम 2 वर्ग चल सकता है। सैनिक अपने विरोधी के मोहरों को तिरछा मारते हैं।

शतरंज में एक कहावत है-सैनिक को हमेशा सोच समझ कर चलो क्योंकि एक बार आगे बढ़ जाने के बाद पीछे नहीं चल सकता जबकि अन्य मोहरों जैसे हाथी घोड़ा ऊंट को पीछे लाकर अपनी गलतियों को सुधार सकते हैं।

राजा की सबसे अच्छी किलेबंदी सैनिक ही कर सकता है।

सैनिक प्रमोशन। Pawn Promotion

जब सैनिक चलते-चलते बोर्ड के आखिरी छोर पर पहुंच जाता है तो उसके पास यह अधिकार हो जाता है कि वह किसी भी मोहरी का रूप ले सकता है जैसे रानी, हाथी, घोड़ा, ऊंट आदि इसे ही प्रमोशन कहते हैं। प्रमोशन करते हुए वक्त अपने विरोधी को बताना पड़ता है कि आप कौन सा मोहरा बना रहे हैं जैसी रानी, हाथी, घोड़ा आदि।

शतरंज में कौन कितना ताकतवर ?

वजीर या रानी  =  9 Point  

हाथी         =   5 Point

ऊंट          =  3.25 Point

घोड़ा           =  3 Point

सैनिक        = 1 Point

कैसलिंग क्या है ?

शतरंज में कैसलिंग राजा और हाथी के बीच होने वाली एक अंतः क्रिया है , जिसमें राजा अपने मूल स्थान से दो कदम दायें या फिर बाएं चला जाता है और हाथी उसके बगल में आ जाती है। कैसलिंग के लिए कुछ जरूरी बातों का होना अनिवार्य है। 

  • यह राजा की पहली चाल होनी चाहिए।
  • राजा को कैसे लिंग के दौरान नहीं पढ़नी चाहिए .
  • . हाथी और राजा के बीच के वर्ग पर दुश्मन के मोहरों का निशाना नहीं होना चाहिए।
  • यह राजा और हाथी की पहली चाल होनी चाहिए।
  • राजा के ऊपर शह नहीं पढ़नी चाहिए।
  • राजा और हाथी के मध्य कोई अन्य मोहरा नहीं होना चाहिए।

En passan Rule

Enpassan Rule in chess

यह शतरंज में एक स्पेशल रूल है , इस नियम के अनुसार अगर सैनिक पहली बार दो कदम चलता है तो उसको तुरंत ही कैप्चर कर लिया जाता है लेकिन इसकी भी कुछ शर्ते हैं।

  1. इस रूल के अनुसार सैनिक को पांचवें रैंक मतलब बोर्ड की मध्य से एक कदम आगे रहना पड़ेगा।
  2. उदाहरण के लिए मेरा सैनिक B5 पर है तो मेरा विरोधी अगर C5 चलता है या फिर A5 चलता है तो ऐसी दोनों स्थितियों में हम उसके सैनिक को मार सकते हैं।

ड्रा हो जाना।

शतरंज के खेल में अगर ऐसी स्थिति बन जाती है कि अब कोई नहीं जीत पाएगा तो ऐसी स्थिति को ड्रा या टाई कहते है। लेकिन ड्रा होने की अन्य निम्नलिखित कारण हो सकते हैं।

  1. आपसी सहमति जिसके द्वारा दोनों प्लेयर ड्रा मान लेते हैं।
  2. शह और मात देने के लिए दोनों पैरों के पास बोर्ड पर कोई मोहरा नहीं मौजूद होने पर।
  3. राजा के पास चलने के लिए जगह में मौजूद होने पर।
  4. 51 मूव तक राजा अकेले जिन्दा बचा रहे तब भी ड्रा हो जाता है?
  5. लगातार तीन बार एक ही स्थिति में राजा का चलना, जिसे रिपीटेशन ड्रा कहते हैं।

शतरंज खेल के कितने प्रकार हैं?

शतरंज को समय के अनुसार 4 फॉर्मेट में बांटा गया है।

1. बुलेट

शतरंज में बुलेट प्रकार का फॉर्मेट प्रायः 1 मिनट का खेला जाता है जिसके अंतर्गत दोनों खिलाड़ियों को अपना गेम समाप्त करना अनिवार्य होता है या फिर जिस खिलाड़ी का समय पहले समाप्त हो जाता है उस खिलाड़ी को हारा हुआ घोषित कर दिया जाता है। बुलेट गेम ऑनलाइन मीडियम पर बहुत फेमस है जैसे www.chess.com लीचेस इत्यादि ।

इस गेम की सबसे बड़ी सुंदरता यह है कि इसमें चीटिंग की कोई संभावना नहीं होती क्योंकि समय इतना कम होता है कि चीटिंग करने के चक्कर में व्यक्ति अपना गेम हार जाएगा समय से।

2. ब्लिट्ज ( Blitz )

ब्लिट्ज इस फॉर्मेट गेम में प्रत्येक खिलाड़ी को 5 से 10 मिनट के बीच का समय दिया जाता है , और इस निर्धारित समय के अंदर ही इन्हें अपना गेम समाप्त करना होता है।

3. रैपिड चेस ( Rapid )

रैपिड चेस में आमतौर पर खिलाड़ी को 15 मिनट का समय दिया जाता है। इस प्रकार से दोनों खिलाड़ी को 15 मिनट के अंदर ही गेम को पूरा पूरा समाप्त करना होता है।

4. स्टैंडर्ड चेस्ट टाइम ! Standard Chess

स्टैंडर्ड जिसमें तकरीबन प्रत्येक खिलाड़ी को 2 से 3 घंटे तक किए जा सकते हैं। यह निर्भर करता है कि टूर्नामेंट ऑर्गेनाइजर ने कितना समय निर्धारित किया है। वैसे आजकल भारत में एक घंटा 30 सेकंड ही 1 प्लेयर को दिए जाते हैं तकरीबन हर एक बड़े टूर्नामेंट में।

दोस्तों आपने शतरंज के चार प्रमुख प्रारूपों के बारे में बहुत अच्छी तरह से जान लिया है। लेकिन आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि आखिर हम शतरंज को प्रोफेशनली कहां से शुरू करें?

शतरंज में बनाना हो कैरियर तो कहां से करें शुरुआत?

दोस्तों अगर आप शतरंज में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो मैं आपको सब कुछ बताऊंगा एक-एक करके क्योंकि मैं एक शतरंज का रेटेड  खिलाड़ी रहा हूं और मेरी रेटिंग 1672 है ।

दोस्तों अगर आप शतरंज के अच्छे जानकार हैं और कुछ कर गुजरने की क्षमता रखते हैं, और आपको नहीं पता है कि आप अपनी प्रतिभा को राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कैसे लाएं? तो आगे बने रहिए, मैं पूरी जानकारी आपको दूंगा।

भारत में एक सरकारी संस्था है जिसे AICF के नाम से जानते हैं जिस का फुल फॉर्म है ऑल इंडिया चेस फेडरेशन।

दिए गए लिंक पर आप किस से संबंधित सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं और साथ ही देश या विदेश में खेले जाने वाली प्रतियोगिताओं के बारे में जानकारी लेकर उसमें भाग ले सकते है।

आप चेस की शुरुआत अपने जिले लेवल से कर सकते हैं। आप अपने जिले में रह रहे संबंधित व्यक्तियों से इसके बारे में जानकारी ले सकते हैं। अगर जानकारी नहीं मिलती है तो आप प्रदेश बॉडी से संपर्क कर सकते हैं। ऑनलाइन माध्यम से आपकी स्टेट बॉडी से संबंधित सारे टूर्नामेंट और सारी जानकारियां आपके सामने हो जाएंगी। आप वहां दिए गए नंबरों पर कॉल करके पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

अगर आप शतरंज के नए खिलाड़ी है तो आपको इन सभी बातों पर विशेष तौर पर ध्यान देने की जरूरत है।

  • बोर्ड के मध्य भाग पर कब्जा करके अपने मोहरों की मारक क्षमता बढ़ा सकते हैं। मध्य में मौजूद मोहरे ज्यादा ताकतवर माने जाते हैं।
  • अपने मोहरों को जल्दी से जल्दी बाहर निकाले।
  • बिना मोहरों के बाहर निकाली ही अपने विरोधी पर हमले करने से बचें।
  • गेम की शुरुआत में किसी एक मोहरे को बार-बार चलने से बचें। पहले को सीसीए करें कि सभी मोहरे हमारी बाहर निकल जाए।
  • जल्दी से जल्दी कैसलिंग करके राजा को सुरक्षित करें?
  • गेम की शुरुआत में रानी को बाहर ना निकालें अन्यथा आपका विरोधी आप की रानी को टारगेट करके सारे मोहरे बाहर निकाल लेगा और आपके में बहुत पीछे चले जाएंगे।
  • हाथियों को वापस में कनेक्ट करके ओपन फाइल पर लगा ले जिससे उनकी मारक क्षमता बढ़ जाती है।
  • राजा की सामने मौजूद सैनिक को बिना वजह आगे न बढ़े अन्यथा। राजा के लिए क्विकनेस तैयार हो जाती है , राजा खतरे में पड़ सकता है।
  • सैनिक को आगे चलने से पहले 2 बार सोचे क्योंकि सैनिक पीछे नहीं आ सकता। आपको गलती सुधारने का एक भी मौका नहीं मिलेगा।

शतरंज कैसे सीखें ?

दोस्तों आपकी मन में यह विचार आता होगा कि हम शतरंज कैसे सीखे याद शतरंज में एक अच्छे खिलाड़ी कैसे बने तो दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि आप शतरंज कहां से सीख सकते हैं और इसके लिए जरूरी चीजें क्या क्या होनी चाहिए?

मोबाइल और टेक्नोलॉजी! के युग में आप बड़ी आसानी से शतरंज को सीख और अच्छी तरीके से खेलकर प्रैक्टिस भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको बस करना इतना है कि अपने आप को विभिन्न ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर रजिस्टर्ड कर लेना है।

यहां पर आप ऑनलाइन किसी व्यक्ति से किस खेल सकते हैं, वह व्यक्ति दुनिया के किसी भी कोने में बैठा हूं। आप सिर्फ चैलेंज करेंगे और सामने वाला व्यक्ति एक्सेप्ट करेगा और इसी दौरान आपका और उस व्यक्ति के बीच एक गेम स्टार्ट हो जाएगा।

आप शतरंज की बारूद बारीकियों को सीखने के लिए यूट्यूब का सहारा ले सकते हैं जहां पर आप को हिंदी इंग्लिश तथा अन्य भाषाओं में भी शतरंज की बारीकियां सीखने को मिल जाएंगी।

https://live.followchess.com/ का सहारा लेकर दुनिया के बेहतरीन खिलाड़ियों के बीच खेला जाने वाला गेम आसानी से लाइव देख सकते हैं, जहां आपको हमेशा कुछ ना कुछ नया सीखने को मिलेगा।

शतरंज के फायदे।

  • शतरंज खेलने से सोचने समझने की शक्ति में इजाफा होता है।
  • शतरंज व्यक्ति को मानसिक बीमारियों से बचाती है।
  • शतरंज व्यक्ति की याददाश्त को बढ़ाती है।
  • शतरंज खेलने से व्यक्ति में ध्यान केंद्रित करने की इच्छा शक्ति जागृत हो जाती है।
  • यह समस्या समाधान में मदद प्रदान करती है।
  • शतरंज खेलने से कठिन परिस्थितियों में उचित निर्णय लेने की क्षमता का विकास होता है।
  • शतरंज व्यक्ति के तनाव को कम करने में सहायक है।
  • इसे भी पढ़े पैसा कैसे कमाए ?

FAQ’s

Q : शतरंज में हार कैसे होती है?
Ans : खिलाड़ी को चेक पड़ी हो और चलने के लिए कोई खाली स्थान ना हो तो ऐसी स्थिति में हार हो जाती है।

Q : शतरंज के मूल नियम क्या है ?
Ans : शतरंज में पीसेस की एक निश्चित चाल होती जिसके हिसाब से एक-एक करके move चलनी पड़ती है जैसे – प्यादा एक या दो कदम , रानी कही भी जा सकती है , घोड़ा ढाई कदम , हाथी ऊपर-निचे , राजा एक कदम चारो-तरफ चल सकता है।

Q : शतरंज खेलना कैसे शुरू कर सकते हैं ?
Ans : शतरंज की शुरुआत सफ़ेद प्यादे को आगे बढ़ाकर कर सकते हैं.

Q : फोर्क क्या है ?
Ans : फोर्क घोडा द्वारा लगाया हुआ अटैक है जहाँ एक से ज्यादा मुहरों को एक साथ टारगेट किया जाता है जैसे राजा और रानी।

शतरंज के नियम हिंदी में | How To Play Chess Game In Hindi कैसी लगी बताना न भूले।


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *