खूँखार भेड़िया और मासूम मेमना । हिंदी कहानी (Letest Hindi story)

खूँखार भेड़िया और मासूम मेमना । हिंदी कहानी

एक चरवाहे ने जंगल मे अपने मेमनो को पहाड़ी के टीलों पर रख दिया जिससे कोई जानवर उनका शिकार कर सके और वह भोजन की तलाश में घने जंगलों में कही निकल गया।

मेमने पहाड़ी के ऊपरी सिरे पर टहल रहे थे तभी एक भेड़िया आकर उस पहाड़ी के चारो तरफ घूमने लगता है काफी देर घुम के वही बैठ गया मेमने भयभीत हो चुके थे । और भेड़िया पहाड़ी पर चढ़ने में नाकाम हो गया ।

भेड़िया फिर मेमनों से बोला मैं तुम्हारी गॉर्ड( सुरक्षा) कर रहा हू चारो तरफ टहल घूम कर अब तुम पहाड़ी से नीचे उतर कर घास चर सकते हो ।
सभी मासूम मेमने छत से कूदने को तैयार हो गए और कपटी भेड़िया की बातों में आ गये ।

तभी एक छोटा मेमना उसकी मंशा समझ गया और झाड़ियो की तरफ इसरा करते हुए बोला जैसे आप मेरी सुरक्षा कर रहे है । वैसे ही एक खूँखार शेर जी भी उन झाड़ियो में छुपकर हमारी सुरक्षा कर रहे है ।

और उस छोटे मेमने ने जोर-जोर से चिल्लाया शेर जी शेर जी ।

फिर क्या ?
इतना सुनते ही भेड़िया जंगल की तरफ भाग खड़ा हुआ ।

इस छोटे मेमने ने बुद्धि का परिचय दिया और सभी मेमनो को बचा लिया ।

निष्कर्ष – किसी के कहने बस से मान लेना मूर्खता है उसकी मंशा जानने की कोशिश करे ।

 

Leave a comment